बिलियन्स इन चेंज क्या है?

बिलियन्स इन चेंज मानव जाति के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए एक आंदोलन है जो दुनिया के दुर्भाग्यशाली हिस्से के लिए उपयोगी आविष्कार कर के उन्हें लोगों तक लाता है, जिससे उनकी बिजली, साफ पानी, पोषक भोजन, और स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ज़रूरतें पूरी हो सकें। हमारे आविष्कारों में ऐसी मशीनें शामिल हैं जो पीने और खेती के लिए ताज़ा पानी बनाते हैं, खर्चे और प्रदूषण से मुक्त बिजली के जेनरेटर जो कि घरों, स्कूलों और दुकानों को रोशनी देते हैं, खेती की तकनीकें जो कि फ़सल की पैदावार, फ़सल की गुणवत्ता और किसानों की आमदनी में वृद्धि करती है, और स्वास्थ्य समाधान जो में बीमारी के मूल कारणों का निदान करते हैं।

बिलियन्स इन चेंज क्या है?

बिलियन्स इन चेंज मानव जाति के भविष्य को बेहतर बनाने के लिए एक आंदोलन है जो दुनिया के दुर्भाग्यशाली हिस्से के लिए उपयोगी आविष्कार कर के उन्हें लोगों तक लाता है, जिससे उनकी बिजली, साफ पानी, पोषक भोजन, और स्वास्थ्य संबंधी बुनियादी ज़रूरतें पूरी हो सकें। हमारे आविष्कारों में ऐसी मशीनें शामिल हैं जो पीने और खेती के लिए ताज़ा पानी बनाते हैं, खर्चे और प्रदूषण से मुक्त बिजली के जेनरेटर जो कि घरों, स्कूलों और दुकानों को रोशनी देते हैं, खेती की तकनीकें जो कि फ़सल की पैदावार, फ़सल की गुणवत्ता और किसानों की आमदनी में वृद्धि करती है, और स्वास्थ्य समाधान जो में बीमारी के मूल कारणों का निदान करते हैं।

सिर्फ पानी, ऊर्जा, भोजन और स्वास्थ्य के क्षेत्र में ही क्यों काम करना है?

जब आप बुनियादी चीज़ों को सही कर देते हैं, तो उसके ऊपर की चीज़ों का रास्ता अपने आप बन जाता है। बुनियादी ज़रूरतें जैसे कि सस्ती और ज़रूरत के समय मिलने वाली बिजली, साफ पानी, पोषक भोजन, और अच्छी स्वास्थ्य सेवा खुशहाली और समृद्धि की नींव हैं। इसलिए हम लोगों को शिक्षा नहीं देते, बल्कि शिक्षा के लिए रास्ता बनाते हैं। हम टीके या दवाइओं के जरिए स्वास्थ्य सेवा नहीं प्रदान करते, बल्कि अच्छे स्वास्थ्य के लिए भी रास्ता बनाते हैं। हम लोगों को पैसे नहीं देते, बल्कि उनके पैसे कमाने का रास्ता बनाते हैं। बिजली, पानी, भोजन और स्वास्थ्य के बुनियादी क्षेत्र दुनिया की सबसे बड़ी समस्याओं के समाधान की कुंजी है।

बिलियन्स इन चेंज किसका प्रयास है?

बिलियन्स इन चेंज़ का नेतृत्व मनोज भार्गव कर रहे हैं, जो 5-आवर इनर्जी के निर्माता हैं, और जो मानते हैं कि समृद्ध लोगों का ये कर्तव्य है कि वे गरीबों की सहायता करें। गरीब लोगों को मूलभूत सुविधाएं मिलें जिससे वे एस स्वस्थ, उपयोगी ज़िदगी जी सकें, इस लिए वे प्रतिबद्ध हैं। स्टेज 2, हंस फाउंडेशन और हंस फाउंडेशन हॉस्पिटल्स के जरिए वे इसी लक्ष्य के लिए काम कर रहे हैं। मनोज ने अपनी 99% सम्पत्ति ज़रूरतमंदों की सहायता के लिए समर्पित कर दी है और अनोखे, ज़ीरो-प्रॉफिट मोडल पर कंपनी चलाकर ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की सेवा कर रहे हैं।

बिलियन्स इन चेंज एक आंदोलन क्यों है?

हम जिन समस्याओं का समाधान करना चाहते हैं, वे किसी एक व्यक्ति या संस्था के वश की बात नहीं है। दुनिया में बड़ा और स्थायी बदलाव लाने एक मात्र तरीका एक ऐसा आंदोलन खड़ा करना है जिसमें भारी संख्या में व्यक्ति, कंपनियां और अन्य संस्थाएं मिलकर एक लक्ष्य के पीछे चलें। बिलियन्स इन चेंज़ में शामिल हैं हमारे संस्थापक मनोज भार्गव, स्टेज 2 (फार्मिंगटन हिल, मिशिगन सें स्थित एक आविष्कारशाला), हंस फाउंडेशन (भारत में समाधानों को लागू करने वाली संस्था) और पूरी दुनिया से दसियों हजार सहयोगी और वॉलेन्टियर्स। हम इस आंदोलन को और भी बढ़ाने में लगे हुए हैं ताकि हम ज़्यादा-से-ज़्यादा लोगों की मदद कर सकें।

हम बिलियन्स इन चेंज से कैसे जुड़ सकते हैं?

If you like what Billions in Change is about, check out our opportunities to Get Involved.  Everybody can do something. And you don’t have to be rich to make a difference. Whatever your capacity is, do that. Join us and make a lasting impact on our world.

अगर आपको बिलियन्स इन चेंज़ का लक्ष्य अच्छा लगता है, तो यहां देखिए कि आप कैसे योगदान दे सकते हैं। हर कोई कुछ-ना-कुछ कर सकता है। इनके लिए आपको धनी होने की ज़रूरत नहीं है। आपसे जो संभव हो, वह करें। हमसे जुड़ें और दुनिया में स्थायी बदलाव लाएं।

बिलियन्स इन चेंज वॉलन्टियर्स के साथ कैसे काम करेगा?

बिलियन्स इन चेंज का का मतलब है अरबों (बिलियन्स) लोग बदलाव (चेंज) लाने में मदद करें। इसलिए हम ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही जगहों पर वॉलन्टियर्स के साथ काम करेंगे। हमारा एनड्रॉइड एप (जल्द ही आने वाला है) और वेबसाइट दोनों इसमें काम आएंगे।

हम कैसे वॉलन्टियर कर सकते हैं?

आप आपने विचार, समय और फील्ड-वर्क के जरिए इस आंदोलन में योगदान दे सकते हैं। जल्द ही लॉन्च होने जा रहे हमारे एन्ड्रॉइड एप को डाउनलोड करें और अन्य वॉलन्टियर्स के साथ मिल कर काम करें। जल्द ही हम फील्ड-वर्क के लिए भी वॉलन्टियर्स के साथ काम करेंगे।

अगर मनोज करोड़ों-अरबों डॉलर खर्च करने को तैयार हैं तो ज़रूरतमंदों को सीधे पैसे क्यों नहीं दे देते?

गरीबी पैसों की कमी से नहीं होती है। गरीबी आमदनी की कमी से होती है। इसलिए गरीबों को पैसे दे देना इसका स्थायी समाधान नहीं है। मनोज का उद्देश्य ऐसे आविष्कार करना है जिससे लोगों को पैसे कमाने में, अपने परिवार का भरन-पोषण करने में, और अपनी ज़िंदग़ी बेहतर बनाने में मदद मिले। लोगों को ये अवसर उपलब्ध कराने के लिए की गई समाजसेवा से ही असली बदलाव आएगा।

मनोज समाजसेवा के लिए समर्पित अपनी 99% संपत्ति कैसे खर्च कर रहे हैं?

अभी मनोज कई तरह की गतिविधियों में अपने पैसे लगा रहे हैं। वह भारत में समाजसेवी संगठनों को पैसे दे रहे हैं, ज़रूरतमंदों के लिए नॉन-प्रोफिट अस्पताल बनवा रहे हैं, स्वास्थ्य, कृषि, और पानी के प्रोजेक्ट्स में निवेष कर रहे हैं, स्टेज 2 की आविष्कारशाला को फंड कर रहे हैं, उनके मिशन से संबंधित प्रोडक्ट और तकनीकों को ढूंढ़ कर उन्हें विकसित कर रहे हैं, ज़रूरत पड़ने पर उनके पेटेन्ट्स भी खरीद रहे हैं, दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में कारखाने और डिस्ट्रिब्यूशन के चैनल बना रहे हैं, और इन सब कामों के लिए सैकड़ों लोगों को नौकरी दे रहे हैं।

अगर मनोज अपनी 99% सम्पत्ति समाजसेवा के लिए दे ही रहे हैं, तो इन प्रोडक्ट्स को बेचने की जगह मुफ़्त में क्यों नहीं दे देते?

हम करोड़ों लोगों की ज़िंदग़ी बदलने की कोशिश कर रहे हैं। इन प्रोडक्ट्स को मुफ़्त में देने से बहुत कम लोगों की सेवा हो पाएगी। मनोज मानते हैं कि मानव जाति के भले के लिए प्रोडक्ट्स ओर तकनीकें बनाने के उनके मिशन को पूरा करने का सबसे अच्छा तरीका इनसे हुई आमदनी को दुबारा निवेश कर देना है। ये पैसे ज़रूरतमंदों को वही प्रोडक्ट सब्सिडाइज्ड दरों पर देने के लिए, या मैनुफैक्चरिंग और डिस्ट्रिब्यूशन दुनिया के और कोनों में ले बढ़ाने के लिए, या नये प्रोडक्ट्स या तकनीकों के विकास के लिए इस्तेमाल किए जा सकते हैं। इन गतिविधियों से जो भी पैसे बनते हैं इसी मिशन के काम में वापस जाते हैं। बड़े स्तर पर और लंबे समय तक रहने वाला बदलाव लाने का और ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की ज़िदगी सुधारने का यही एक तरीका है।

हम आपके साथ काम कैसे कर सकते हैं?

अभी हमारे साथ रोजगार के अवसर नहीं हैं। हमारे साथ काम करने का सबसे अच्छा तरीका हमारे आंदोलन में योगदान देना है।

क्या मनोज मेरे काम में सहयोग दे सकते हैं?

हमे दुनिया के हर कोने से कई अच्छे कामों और योजनाओं के बारे मे पते चलता है। लेकिन हम पहले से ही इतने प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहे हैं कि हम अभी कुछ और नया नहीं शुरू कर सकते।

हमारे पास एक नया आइडिया या आविष्कार है जो हम मनोज या स्टेज 2 के साथ शेयर करना चाहते हें। कैसे कर सकते हैं?

मनोज और स्टेज 2 अभी हंस™ प्रोडक्ट्स और रेनमेकर में अपना पूरा समय लगा रहे हैं।  उनके अलावा कई और प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है। अभी वे नए काम का प्रस्ताव नहीं ले सकते। आपके सहयोग के लिए धन्यवाद।

क्या हम स्टेज 2 की आविष्कारशाला देख सकते हैं?

अभी स्टेज 2 का टूर संभव नहीं है।

हम आपकी फिल्मों का अनुवाद अपनी मातृभाषा में करना चाहते हैं। उसका क्या तरीका है।

हम अभी अपनी फिल्मों में कई भाषाओं के सब-टाइटल डालने के लिए एक प्रक्रिया विकसित कर रहे हैं, तब तक आप अपने बारे में हमें सूचित कर सकते हैं। यहां क्लिक कर के हमें बताएं कि आप अनुवाद करने के लिए वॉलन्टियर करना चाहते हैं और कोन सी भाषाओं में मदद कर सकते हैं।

रेनमेकर कब खरीदा जा सकता है?

अभी हमारा अनुमान है कि 2018 के मध्य में खारे और गंदे पानी के लिए रेनमेकर उपलब्ध हो जाएगा। समुद्री पानी के रेनमेकर की उपलब्धता के बारे में अभी कोई जानकारी नहीं है।

रेनमेकर मशीनों के दाम क्या होंगे?

स्टेज 2 अभी मेनुफैक्चरिंग की व्यव्स्था कर रहा है और कच्चा माल बड़े स्तर पर खरीदने पर काम कर रहा है। इसलिए अभी हमारे पास लागत की जानकारी नहीं है।

समुद्री पानी के लिए रेनमेकर के साथ क्या चल रहा है?

स्टेज 2 समुद्री पानी के लिए रेनमेकर को लगातार काम में बेहतर और आकार में छोटा बना रहा है। लेकिन समुद्री पानी के इस्तेमाल में कानूनी अड़चनों की वजह से हम खारे और गंदे पानी के लिए रेनमेकर पर अपना ध्यान ज़्यादा लगा रहे हैं। ये दोनों मशीने गांव के स्तर पर इस्तेमाल की जा सकती हैं और तुरत लगाई जा सकती हैं।

अगर समुद्री पानी के लिए रेनमेकर को लेकर सरकार के साथ काम करने में अड़चनें आ रही हैं, तो आप बड़ी कंपनियों के साथ काम क्यों नहीं करते?

हम कुछ वैसा ही करने की सोच रहे हैं। कई कंपनियों और युनिवर्सिटीज़ ने इसमें रुचि ज़ाहिर की है।

हंस™ मशीनें कैसे खरीदी जा सकती हैं?

हंस™ पावरपैक अभी भारत और अमेरिका में खरीदा जा सकता है। हंस™ सोलर ब्रीफकेस प्री-ऑर्डर के ले उपलब्ध है और नवम्बर या दिसम्बर 2017 से शिप होने लगेगा। 2017 के अंत तक हंस™ फ्री इल्क्ट्रिक साइकिलें भी भारत में उपलब्ध हो जाएंगी। खरीदने के लिए या अधिक जानकारी के लिए देखें BuyHansElectric.in.

क्या हंस™ पावरपैक और हंस™ सोलर ब्रीफकेस अमेरिका और भारत के बाहर उपलब्ध हैं?

अभी ये प्रोडक्ट्स अमेरिका और भारत के बाहर उपलब्ध नहीं हैं। 2018 में हम और देशों में डिस्ट्रिब्यूशन पार्टनर्स से बात करनी शुरू करेंगे।

हंस™ मशीनों के बारे में और जानकारी कहां मिल सकती है?

हंस™ पावरपैक और हंस™ सोलर ब्रीफकेस के बारे में और जानकारी के लिए देखें BuyHansElectric.in.

हंस™ फ्री इल्क्ट्रिक साइकिल का क्या हुआ?

2016 और 2017 की शुरूआत में हमें हंस™ फ्री इल्क्ट्रिक साइकिल के फील्ड टेस्ट के परिणाम मिले, जिनसे पता चला कि उसकी बैट्री पर काफी  काम करने की ज़रूरत थी। साइकिलें पोर्टेबल भी नहीं थी, उसमें बत्तियों की ज़रूरत थी, और उसका इस्तेमाल आसान करने की भी ज़रूरत थी। जब स्टेज 2 ने बैट्री पर काम करना शुरू किया, तो उन्होंने एक पूरी नई मशीन ही विकसित कर डाली जो अब हंस™ पावरपैक है। पावरपैक के साथ साइकिल एक एक्सेसरी बन गई, उसे चार्ज करने का एक और तरीका। साइकिल के बड़े आकार, इसके उत्पादन में लगने वाले स्पेशल टूल्स, और इसको इस्तेमाल करने में लगने वाली मेहनत को देखते हुए हमें लगता है कि लोग चार्ज करने के दूसरे तरीकों का उपयोग ज़्यादा करेंगे। हम भारत के लिए अभी भी साइकिल बनाने जा रहे हैं, लेकि हमारा मानना है कि हंस™ पावरपैक और हंस™ सोलर ब्रीफकेस की मांग ज्यादा होगी।

अगर हमारे पास पैसे हैं तो क्या हम हंस™ पावरपैक या हंस™ सोलर ब्रीफकेस किसी ज़रूरतमंद के लिए खरीद सकते हैं?

आप बिलियन्स इन चेंज को हंस फाउंडेशन के जरिए डोनेट कर सकते हैं। हम हर डोनेशन को किसी एक काम के लिए इस्तेमाल करने का वादा तो नहीं कर सकते हैं, लेकिन डोनेशन से आया एक-एक पैसा बिलियन्स इन चेंज के कामों के लिए ही इस्तेमाल होगा और ये प्रयास हंस फाउंडेशन के साथ लागू किए जाएंगे। भारत में आप हंस™ पावरपैक या हंस™ सोलर ब्रीफकेस BuyHansElectric.in से खरीद कर ज़रूरतमंद लोगों को दे सकते हैं। तीस प्रोडक्ट्स खरीदने पर छूट उपलब्ध है।

हंस™ की मशीनें कहां पर बनाई जाएंगी?

अभी के लिए सारे हंस™ प्रोडक्ट्स अमेरिका में स्टेज 2 में बनाए जाएंगे।

क्या हम डिस्ट्रिब्यूटर बन सकते हैं?

अगर आप हंस™ के प्रोडक्ट्स भारत में डिस्ट्रिब्यूट** करना चाहते हैं तो सीधे BuyHansElectric.in से खरीद सकते हैं। तीस प्रोडक्ट्स ऑर्डर करने पर डिसकाउंट उपलब्ध हैं। भारत के बाहर को प्रॉडक्शन और डिस्ट्रिबयूशन के बारे में जानकारी अभी उपलब्ध नहीं है।

** ध्यान रखें कि डिस्ट्रिब्यूट करने के लिए आपको सरकारी रजिस्ट्रेशन या लाइसेंस की ज़रूरत हो सकती है।

क्या हंस™ प्रोडक्ट्स का पेटेंट लिया गया है?

हां।

लिमिटलेस इनर्जी के प्रोजेक्ट में क्या चल रहा है?

ग्राफीन प्रोजेक्ट पर, जिसका जिक्र पहली फिल्म में हुआ था, अभी भी रिसर्च चल रही है। कई लोग इसमें लगे हुए हैं, लेकिन लैब के बाहर इस्तेमाल करने की स्थिति तक पहुंचने में अभी इसे समय लगेगा। जैसे ही कोई बड़ी ख़बर आएगी, हम आपको ज़रूर बताएंगे।

आप एक-एक स्वास्थ्य समस्या का समाधान ढूंढ़ने की जगह बुनियादी ज़रूरतों पर क्यों काम कर रहै हैं?

हमारे विश्वास है कि जब आप बुनियाद बदलते हैं तो उसके ऊपर का सब कुछ भी बदल जाता है। पानी बुनियाद है। क्योंकि पानी से होने वाली बीमारियां दुनिया भर में बीमारी और मौत का सबसे बड़ा कारण हैं, ये ज़ाहिर है कि लोगों को साफ पानी देना उनके अच्छे स्वास्थ्य का सबसे अच्छा उपाय है। भोजन बुनियाद है। जब लोग पोषक भोजन करते हैं, तो उनकी इम्युनिटी मजबूत रहती है और वे बीमार नहीं पड़ते। बिजली बुनियाद है। अगर गांव के एक हेल्थ क्लिनिक के पास रोशनी, छोटा रेफ्रीजेरेटर, और सामान्य मेडिकल मशीनें चलाने लायक बिजली होती है, तो वे बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर सकते हैं। इन वजहों से हम बुनियादी ज़रूरतों में पर ध्यान लगा रहे हैं।

रिन्यू ईसीपी के साथ क्या चल रहा है?

रिन्यू ईसीपी नवम्बर 2015 से उपलब्ध है और हाल ही में यू. एस. फूड एन्ड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन ने इसे ब्लड सर्क्युलेशन बढ़ाने के लिए हृदय रोगियों ओर स्वस्थ लोगों दोनों को लिए मान्यता दे दी है। इसका इस्तेमाल डाक्टर की निगरानी में होना चाहिए। अपने इलाके में इसकी उपलब्धता एशिया वेबसाइट पर देखें

आप और किन बीमारियों पर काम कर रहे हैं?

हम डाइबीटीज, फेफड़े की समस्याओं और न्यूरोपैथी पर काम कर रहे हैं।

शिवंश खाद की प्रक्रिया कैसे काम करती है?

शिवंश खाद एक प्राकृतिक एक्ज़ोथर्मिक प्रक्रिया से बनती है। क्योंकि यह प्रक्रिया आकार, सामग्री, अनुपात, परतों और पलटाइ के माध्यम से ऑप्टिमाइज़्ड है, बढ़िया, उपजाऊ खाद बनाने में इसे सिर्फ़ 18 दिन लगते हैं।

शिवंश खाद कौन बना सकता है?

कोई भी। शिवंश खाद को बनाने के लिए कोई खर्चा नहीं करना पड़ता। बस पौधों और फसलों के सूखे हिस्सों, जानवरों का गोबर और पानी चाहिए होता है। खाद का ढेर बनाने के लिए एक सूखा, छायादार स्थान भी चाहिए होगा।

आप शिवंश खाद का प्रचार कैसे करने जा रहे हैं?

एक सचित्र किताब और एक वीडियो तैयार किए गए हैं ताकि किसान शिवंश खाद की प्रक्रिया को बेहतर समझ सकें। हम जल्द ही इस किताब का 20-30 भाषाओं में अनुवाद निकालेंगे ताकि पूरी दुनिया के लोग इसका इस्तेमाल कर सकें। भारत में हंस फाउंडेशन किसानों को ट्रेनिंग देने का एक कार्यक्रम चला रहा है।